Google search engine
Homeरिव्यूसTAALI review: ट्रांसजेंडर एक्टिविस्ट के रूप में सुष्मिता सेन ने किया सर्वश्रेष्ठ...

TAALI review: ट्रांसजेंडर एक्टिविस्ट के रूप में सुष्मिता सेन ने किया सर्वश्रेष्ठ अभिनय

Taali: ट्रांसजेंडर कार्यकर्ता गौरी सावंत के जीवन पर आधारित है वेबसीरीज

“TAALI” सुष्मिता सेन द्वारा अभिनीत ट्रांसजेंडर कार्यकर्ता गौरी सावंत के जीवन पर आधारित है। यह हर दस्तावेज़ में भारत में तीसरे लिंग को शामिल करने के लिए उनके संघर्षों को चित्रित करता है।

किन्नरों के प्रति देखने का नजरिया बदलती है यह वेबसीरीज।

आप जानते हैं कि यह एक ऐसी बॉलीवुड फिल्म या श्रृंखला नहीं होगी जहां ट्रांसजेंडरों को सड़कों पर लोगों को डराते हुए ‘हिजड़ों’ के रूप में दिखाया जाता है।  यह क्रांति है। जो ट्रांसजेंडर एक्टिविस्ट श्रीगौरी सावंत की जीवनी पर आधारित है। सुष्मिता सेन अभिनीत यह कार्यक्रम फिलहाल जियो पर प्रसारण हो रहा है। बहुत कम शो हैं जो आपको खींच सकते हैं, लेकिन “TAALI” एक दुर्लभ खोज है जो आपको बदल देगा। यह आपको अगली बार मिलने वाले ट्रांसपर्सन के प्रति सहानुभूतिपूर्ण बना देगा। इससे आपको उनकी यात्रा का पता चलेगा।

Taali Official Trailer


किन्नरों की मान्यता के लिए लड़ी जाती है कानूनी लड़ाई । 

TAALI आज की एक बहुत अहम फिल्म है। 2014 तक देश में किन्नरों को मान्यता नहीं मिली थी। उनके अस्तित्व का कोई कानूनी प्रमाण नहीं था। वे गोद लेना, शादी करना, गाड़ी चला नहीं  सकते थे या सरकारी लाभ नहीं ले सकते थे। आजकल, आवेदन पत्रों पर पुरुष और महिला के साथ एक “अन्य” विकल्प हमेशा देखते हैं। श्रीगौरी सावंत ने सुप्रीम कोर्ट में कानूनी मान्यता की मांग की। 2014 में सुप्रीम कोर्ट ने ट्रांसजेंडर समुदाय के अधिकारों को “तीसरे लिंग” का दर्जा दिया। गौरी ने ट्रांसजेंडर लोगों को सम्मानपूर्वक अपना जीवन जीने का अधिकार दिया है।


गौरी के संघर्षपूर्ण जीवन की कहानी।

वेबसीरीज गौरी के बचपन, उनके पिता के साथ उनके रिश्ते में संघर्ष, अपनी मां को कम उम्र में खोने, उनकी संक्रमण यात्रा और मातृत्व की लालसा को चित्रित करती है। इसके अलावा, यह उनकी कानूनी अधिकारों की लड़ाई को दिखाता है। वह चाहती हैं कि ट्रांस लोगों को देश के नागरिक के रूप में मान्यता मिले और उचित सम्मान मिले। दृश्य में, सुष्मिता का चरित्र कहता है कि उसका संघर्ष ‘पहचान, अस्तित्व और समानता’ के लिए है। हम गौरी की लिंग-परिवर्तन सर्जरी की यात्रा दूसरे क्रम में देखते हैं।

गणेश से गौरी तक की अनोखी यात्रा।

सीरीज  शुरू होती है गणेश (जिसका नाम गौरी था जब वह पुरुष था) से, जो कक्षा में बैठा है और अपने शिक्षक से पूछता है कि उसकी भविष्य की क्या उम्मीदें हैं। गणेश कहता है कि वह माँ बनना चाहता है, जिससे उसके शिक्षक असहज हो जाते हैं, जबकि उसके सहपाठी उसका मज़ाक उड़ाते हैं। किंतु कुछ भी उसे परेशान नहीं करता। वह घर पर दर्पण के सामने मेकअप करना और महिलाओं के कपड़े पहनना पसंद करती है। उसके पिता, जो उसे स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं हैं, उसे डॉक्टरों के पास ले जाते हैं और उसे गोलियाँ देते हैं ताकि वह एक लड़की की तरह व्यवहार करना बंद कर दे। जब उसकी माँ मर जाती है, तो वह घर से भाग जाता है और सड़कों पर ‘हिजड़ा’ बनकर पैसे की भीख मांगता है। गणेश बहुत बाद में गौरी बन जाते हैं और ट्रांसजेंडर अधिकारों का प्रचार करते हैं।

सीरीज में कई ऐसे क्षण हैं जो दिल को तोड़ देंगे। हम देखते हैं कि गौरी छोटे बच्चों जिनको सड़को पर छोड़ देते हैं  उन्हें अपना लेती है। एक अलग घटना में, उसकी एक ट्रांस मित्र की आत्महत्या करने से मृत्यु हो जाती है, जिसके शरीर को अस्पताल ने कूड़ेदान के बगल में जमीन पर फेंक दिया है। यह देखकर आपका गला रुंध जाएगा कि ट्रांस लोगों के साथ कितना बुरा व्यवहार किया जाता था।

‘TAALI’ के साथ सुष्मिता सेन ने अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया है, यह कहना सही होगा। वह और गौरी एक बन जाते हैं, और कभी-कभी उनसे अलग करना मुश्किल हो जाता है। वह एक बिंदास व्यक्ति है जो अपने और अपने दोस्तों के साथ गलत करने वालों को बहुत मर्दाना आवाज से डराती है। अक्सर आप यह भी भूल जाते हैं कि सुष्मिता सिर्फ एक पात्र हैं।

उसकी शारीरिक भाषा, व्यवहार, सही मेकअप, गुस्से की अभिव्यक्ति, चौड़ी आंखें और एक आदमी की आवाज की तरह मजबूत पिच सब सही है। वह किरदार में फिट बैठी। उनका अभिनय ही TAALI को सफल बनाएगा। एक आदमी का किरदार निभाना बहुत मुश्किल नहीं है। गणेश भी सुष्मिता का कायल है। वह अपने चरित्र को व्यंग्य नहीं करतीं।

श्वेत पत्रकार माया राचेल मैकमैनस ने सुनाया गया फ्लैशबैक का कुछ हिस्सा इसमें दिखाया गया है। निर्माता ने बताया कि गौरी इतनी प्रभावशाली कैसे बन गईं कि वे पुलिस, मीडिया और यहां तक कि राजनेताओं से भी जुड़ गईं। निर्माताओं ने एक दृश्य में गलती की: सुष्मिता, यानी गौरी, एक अस्पताल के डीन को कपड़े उतारने की धमकी देती है अगर वह उसकी मांगें नहीं सुनेगी। क्या यह किन्नरों को बदनाम नहीं करता? शो को और अधिक सूक्ष्म बनाने के लिए इनमें से कुछ से बचना चाहिए था।

खामियों के बावजूद, ‘TAALI’ एक ऐसी श्रृंखला है जो परिपक्व है। यह देखने वालों में करुणा की भावना पैदा करती है। कुछ भी हो, सुष्मिता सेन के लिए यह वेब सीरीज देखनी चाहिए।
महत्वपूर्ण खबरों और रिव्यूज के लिए जुड़े रहे के Ipp News साथ।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments